गर्भ का विकास क्रम

गर्भविज्ञान या गर्भसंस्कार भारत का अत्यंत महत्त्वपूर्ण विषय है। यह मनुष्य के जीवन के पंचकोशीय समग्र विकास के साथ अभिन्न रुप से जुडा हुआ है। पूज्य गुरुजीने वर्षो के संशोधन के बाद गर्भ आह्वान, दिव्य आत्मा अवतरण विधि, गर्भसंस्कार, गर्भ का विकासक्रम, गर्भ का पंचकोशीय विकास, अंग-प्रत्यंग विकास एवं मन-बुद्धि और चित्त के विकास में