Vat Rog Har Massage Oil

Home/Aushadhi/Vat Rog Har Massage Oil

Vat Rog Har Massage Oil

70.00

Net Volume : 50 Ml.

हर दर्द की एक द्वा

आयुर्वेद के विभिन्न ग्रंथो में वातज रोगों को दूर करनेवाली औषधियाँ जैसे कलौंजी, रास्ना, निर्गुण्डी, गुग्गलु, अजवाईन इत्यादि का वर्णन है । यह सब औषधियों का मिश्रण करके संस्कृति गुरुकुलम ने वातरोगहर तैलम बनाया है । ८० प्रकार के वात रोगों में मसाज के लिए विभिन्न तैल एवं औषधियाँ बताई गई हैं । वर्षों के चिकित्सा कार्य के अनुभव के आधार पर इन औषधियों का मिश्रण करके यह तैल उत्तम रीति से सिद्ध किया हुआ है । विभिन्न तैल एवं औषधियों का अनुपात इसमें वर्षों के संशोधन के बाद निश्चित किया गया है । यह तैल प्राचीन पद्धति के अनुसार पातालयंत्र का उपयोग करके बनाया गया है, और तैल को सिद्ध करने की पद्धति भी प्राचीन ग्रंथो से ली गई है ।

Various vaat rog removing medicines like kalaunji, raasna, nirgundi, guggulu, ajwain have been prescribed in Ayurved. Such medicines are combined together to prepare vaatroghar message oil. Ayurveda prescribes various medicines for 80 types of vaat related diseases. Years of medical work experience have lead Sanskruti Arya Gurukulam to prepare this combination of medicines which has been made potent using best methods. Proportion of various oils and herbs has been decided after years of research. This oil has been prepared using the ‘Paataal Yantra’ and its method has been taken from the ancient Ayurveda texts.

Category:

Description

CONTENTS:

Lahsoon: 5 %

Dhatoor Beej: 5 %

Nirgundi: 20 %

Raasna: 10 %

Aswagandha: 5 %

Methi: 10 %

Guggalu: 5 %

Laksha: 10 %

Fudina Satva: 3 %

Ajawaain Satva: 2 %

Kapoor: 5 %

Gandhpura Tailam: 10 %

Lemongrass Tailam: 5 %

Nilgiri Tailam: 5 %

Sarso Tailam: 5 %

लाभ :

  • शरीर के किसी भी भाग में होनेवालें दर्द को दूर करता है ।
  • माहवारी के दिनो में होनेवालें दर्द को दूर करता है ।
  • हड्डियों के दर्द को दूर करके आराम देता है ।
  • प्रसूतावस्था के बाद स्त्रियों को वात के रोगों से रक्षण देता है ।
  • वृद्धावस्था में विभिन्न वातरोगों से बचाता है ।
  • गठिया इत्यादि वातरोगों में मालिश करने से बहुत लाभ मिलता है ।
  • Rumetoid, Arthrities Pain इत्यादि में यह तैल लाभदायी है ।
  • किसी भी प्रकार के दर्दो में इसके मसाज करने से तुरंत राहत मिलती है और दर्द कम होता है ।

सेवनविधि :

दर्द के स्थान पर यथावश्यक मात्रा में लेकर मसाज करें ।

सेवनयोग्य व्यक्ति :

१ साल से अधिक आयुवाला कोई भी व्यक्ति इसका सेवन कर सकता है ।

Additional information

Weight 0.065 kg
Dimensions 3.6 × 3.6 × 10.2 cm