Shilajit Capsules

Home/Aushadhi/Shilajit Capsules

Shilajit Capsules

200.00

Net Volume : 30 Capsules

विशेष :

कैप्सूल मॆं Giletine होता है, जो शाकाहारी लोगों के लिए उपयुक्त नहीं है । हमारी संस्था की सभी कैप्सूल सम्पूर्णत: शाकाहारी है, इसलिए शाकाहारी व्यक्ति भी निर्भयता से इसका सेवन कर सकता है ।

शिलाजित पर्वतों से निकलनेवाला एक चिकना पदार्थ है । शिलाजित की उत्त्पति सोना, चांदी, ताम्र एवं लोहवाले पहाड़ों में से होती है । इसलिए उसमें ऐसी धातुओं का सत्वरुप अंश होता है । “न सोस्ति रोगो भुवि साध्यरुप: शिलाह्वयं यन्न जयेत्‍ प्रसह्य” । अर्थात्‍ संसार में ऐसा एक भी रोग नहीं है, जो शिलाजित के विधिवत्‍ सेवन करने से ना मिटे । संस्कृति आर्य गुरुकुलम्‍ द्वारा उत्तराखण्ड के पर्वतो से शिलाजित को लाकर त्रिफला के क्वाथ में उसको शुद्ध किया जाता है तथा सूर्य की धूप में रखा जाता है । इस प्रकार शास्त्रीय पद्धति से शिलाजित को शुद्ध करके veg capsule में भरकर “शिलाजित कैप्सूल” तैयार करी जाती है । संस्कृति आर्य गुरुकुलम्‍ के चिकित्सालय में विभिन्न रोगों में इसका उपयोग किये जाने पर बहुत लाभदायी परिणाम मिले हैं ।

Shilajit is a smooth substance which is found from mountains. Shilajit is found/produced in mountains where gold, silter, copper and ironore is found. That is why part of these metals is present in shilajit. “न सोस्ति रोगो भुवि साध्यरुप: शिलाह्वयं यन्न जयेत्‍ प्रसह्य” It means there is no disease which can be cured with prescribed use of shilajit. In Sanskruti Arya Gurukulam, shilajit is brought from Uttarakhand mountains and is purified in trifala kwath and kept in sunlight. In this shastriya way, shilajit is purified and filled in the capsules to make shilajit capsules. Sanskruti Arya Gurukulam has received very good results in its clinic for use in various diseases.

Category:

Description

CONTAINS : Each 500 mg Veg capsule

100 % pure & organic Shuddh Shilajit powder

लाभ :

  • शिलाजित कैप्सूल सभी प्रकार के पुराने और कष्टदायी रोगों को दूर करती है ।
  • यह सभी प्रकार के प्रमेह, सभी प्रकार के उदररोग, और सभी प्रकार के चर्मरोग को जड़मूल से नाश करती है ।
  • शरीर को स्वस्थ और सुगठित बनाने के लिए शिलाजित उत्तम रसायन है ।
  • यह मूत्रगत शर्करा और अश्मरी में बहुत लाभदायी सिद्ध हुई है ।
  • योगवाही होने के कारण जिस औषध के साथ ली जाएँ उस औषध के गुणों को बढ़ाती है ।
  • आयुष्य की वृद्धि के लिए रसायन के रुप में विधिवत्‍ इसका प्रयोग किया जाता है ।

सेवनविधि :

सुबह-दोपहर-शाम १-१ कैप्सूल गुनगुने पानी या देशी गाय के दूध के साथ लें ।

Who can consume : Anyone above the age of 1 year can consume.

Additional information

Weight 0.032 kg
Dimensions 4.8 × 6.2 cm