Shakti Vardhak Syrup

Home/Aushadhi/Shakti Vardhak Syrup

Shakti Vardhak Syrup

120.00

Net Volume : 200 Ml.

विशेष :

सिरप में चीनी का उपयोग किया जाता है, जो शरीर के लिए हानिकारक है । जब की इस सिरप में प्राकृतिक खड़ी शक्कर का उपयोग क़िया गया है, जिसका कोई हानिकारक प्रभाव ना  होने से निर्भयता से ली जा सकती है ।

आयुर्वेद के विविध ग्रंथों में शक्ति (उर्जा) को अधिक महत्वपूर्ण बताया गया है क्योंकि किसी भी प्रकार का कार्य शक्ति (उर्जा) के बिना असंभव है । प्रत्येक कार्य होने में किसी ना किसी रुप में शक्ति का उपयोग होता ही है । किसी भी प्रकार का कार्य करने के कारण, किसी प्रकार की बीमारि के कारण या अत्याधिक परिश्रम करने के कारण हमारी शक्ति का ह्रास हो जाता है । ऐसी परिस्थिति में तुरंत शक्ति की आपूर्ति करना अत्यंत आवश्यक होता है । आयुर्वेद के ग्रंथों में बहुत औषधियाँ बताई गई है, जो प्राकृतिक रुप से शरीर में शक्ति का संचार करती है और स्थिर रुप में बनी रहती है । पूज्य गुरुजी ने विविध आयुर्वेदिक औषधियों पर प्रयोग करके खास चुनी हुई औषधियों को प्राकृतिक खड़ी शक्कर के साथ मिश्रण करके “शक्तिवर्धक सिरप” तैयार किया है ।

Various ayurvda texts have called strength (shakti) or energy (oorja) as very important as no task is possible without strength or energy. Strength is used in one form or the other for every single task and activity. Because of doing any kind of work, any disease or excess work cause our strength and energy to deplete. In such a situation, strength needs to be reinstated quickly. Ayureda describes many medicines which provide natural energy and strength to the body and stay permanently. Pujya Guruji has combined specially selected ayurvedic medicines with organic sugar or khadi shakkar and created ‘shaktivardhak syrup.

Category:

Description

CONTAINS  :

Ashvagandha: 25 mg

Shatavari: 25 mg

Vidarikand: 25 mg

Kaucha: 25 mg

Amla: 25 mg

Galo: 25 mg

Gokharu: 25 mg

Lindi Piper: 15 mg

लाभ :

  • अश्वगंधा बल्य, ब्रुहण, रसायन एवं उत्तम वृष्य है । आयुर्वेद मॆं इसके शक्तिवर्धक गुण की महत्ता बताते हुए कहा है कि यह अश्व की तरह ताकतवर बनाता है ।
  • शतावरी को आयुर्वेद में जड़ीबूटी की रानी कहा है । यह शरीर के क्षय और दुर्बलता को मिटाता है एवं स्त्रियों के लिए उत्तम शक्तिवर्धक है ।
  • विदारी कंद बल्य, ब्रुहण, व्रुश्य और रसायन है । यह बच्चों एवं स्त्री-पुरुषों के शरीर को पुष्ट, शक्तिशाली और सुडौल बनाता है ।
  • कौचा उत्तम शुक्रवर्धक, बल्य, ब्रुहण और व्रुष्य है । यह क्रुशता, क्षय, धातुक्षीणता और दुर्बलता को मिटाता है ।
  • पिप्पली एक उत्तम योगवाही औषधि है । यह सभी औषधियों से मिलकर उसके गुणों में अभिवृद्धि करती है ।
  • गुडुची, गोखरु और आँवला यह तीनों औषधि मिलकर रसायन चूर्ण बनता है । यह एक उत्तम टॉनिक है । यह तीनों दोषो का शमन करके शरीर की समस्त धातुओं की पुष्टी करता है एवं वृद्धावस्था को दूर करता है ।
  • ‘शक्तिवर्धक सिरप’ शरीर की तमाम प्रकार की दुर्बलता दूर करके सभी धातुओं को प्राकृतिक रुप से शक्ति प्रदान करता है, जो स्थिर रुप से बनी रहती है ।

सेवनविधि :

सुबह-दोपहर-शाम भोजन के बाद २-२ चम्मच समभाग पानी के साथ लें ।

सेवनयोग्य व्यक्ति :

१ साल से अधिक आयुवाला कोई भी व्यक्ति इसका सेवन कर सकता है ।

Additional information

Weight 0.257 kg
Dimensions 5.8 × 15.4 cm