Parijat Tablet (Harshringar)

Home/Aushadhi/Parijat Tablet (Harshringar)

Parijat Tablet (Harshringar)

90.00

Net Volume : 30 Tablets

गौ मुत्र एवम गोमय खाद से उत्पादित पारिजात से बनाइ गइ 

पाचक द्रव्य शुद्ध सात्विक जीरा मिश्रित 

पारिजात का वर्णन विभिन्न पुराणों में एवं आयुर्वेदिक ग्रंथों में किया गया है । पारिजात स्वर्ग से आया हुआ पौधा है अर्थात्‍ इसमें उत्तम रसायन गुण पाये गए हैं । पारिजात के पत्ते, फूल, त्वक्‍ सभी अवयवो का उपयोग होता है । पत्तों, फूलों एवं त्वक्‍ को लेकर विशिष्ट से उसका मिश्रण बनाकर संस्कृति आर्य गुरुकुलम्‍ ने वर्षों तक अप्ने चिकित्सालय में उपयोग किया है और अनेक प्रकार के वात के रोगों में तथा कफ के रोगों में उत्तम परिणाम प्राप्त हुआ है ।

Parijaat has been mentioned in various puranas and ayurvedic texts. Parijaat is said to have come from heavens, it means it has tremendous rasayan qualities. Leaves, flowers, bark of Parijaat are all used for various medicines. Sanskruti Arya Gurukulam has made a fine combination of parijaat leaves, flowers and bark and has used in its clinics for long. It has been found beneficial in various vaata and kapha diseases.

Category:

Description

लाभ :

  • पारिजात को एक महान एंटी पायरेटिक के रूप में जाना जाता है। यह मलेरिया, डेंगू और चिकनगुनिया बुखार सहित विभिन्न मिचली प्रकार के बुखार का इलाज करता है ।
  • हाल के अध्ययनों से पता चलता है कि पारिजात नये बुखार को सुधारने के लिए बहुत उपयोगी हैं ।
  • यह डेंगू और चिकनगुनिया बुखार में प्लेटलेट काउंट बढ़ाने में मदद करता है ।
  • यह बैक्टीरियल/परजीवी विकास को भी रोकता है जो बुखार का कारण बन सकता है ।
  • गठिया और साइटिका सबसे दर्दनाक स्थितियां हैं । पारिजात के पत्तों और फूलों में विरोधी गुण और विशिष्ट आवश्यक तेल होते हैं जो उनके उपचार में है ।
  • पारिजात के पत्तों और फूलों से बनी चाय का इस्तेमाल खांसी, जुकाम और ब्रोंकाइटिस को कम करने के लिए किया जाता है । यह अस्थमा में भी बहुत अच्छी तरह से काम करता है ।
  • पारिजात तेल एंटी एलर्जिक, एंटीवायरल और एंटीबैक्टीरियल के रूप में शानदार काम करता है ।
  • यह ई कोलाई जैसे कीटाणुओं को रोकने में मदद करता है, स्टैफ संक्रमण, और कुछ फंगल संक्रमण में लाभ करता है । इसका उपयोग त्वचा के विभिन्न फंगल संक्रमण के इलाज के लिए भी किया जा सकता है

सेवनविधि :

सुबह-दोपहर-शाम २-२ टेबलेट पानी के साथ लें ।

१२ साल से कम आयुवाले बच्चों को आधी मात्रा में औषध दें ।

सेवनयोग्य व्यक्ति :

१ साल से अधिक आयुवाला कोई भी व्यक्ति इसका सेवन कर सकता है ।

CONTAINS : Parijat

Products Key Feature(s) : Parijat or the Indian coral jasmine is a blood regulator and purifier. It is made available in its most natural and pure form in this powder.

Shastrokt (Vedic) Importance : Parijat is extensively mentioned in India’s vedic and ancient scriptures. According to the vedic scritures, seeds of this tree have come from heaven. Just like heaven is described to have no disease, paint and unhappiness; the same way parijaat is said to cure the disease, pains and unhappiness of the person consuming it.

Relevant Mantra :

रसः प्राजक्तपत्रस्य ज्वरघ्नो तिक्तकः स्मृतः।

पर्ण खण्डसमायुक्ता त्वचाकासविनाशिनी।।

AyurvedVidhan : द्रव्यगुण विधान

Why To consume : For pain, sciatica and various vaat related problems

Who Can Consume : Any one above 12 months of age

Dosage: 2 tab thrice a day

Additional information

Weight 0.032 kg
Dimensions 4.8 × 6.2 cm