MestroGreen Capsules

Home/Aushadhi/MestroGreen Capsules

MestroGreen Capsules

160.00

Net Volume : 30 Capsules

विशेष :

कैप्सूल मॆं Giletine होता है, जो शाकाहारी लोगों के लिए उपयुक्त नहीं है । हमारी संस्था की सभी कैप्सूल सम्पूर्णत: शाकाहारी है, इसलिए शाकाहारी व्यक्ति भी निर्भयता से इसका सेवन कर सकता है ।

स्त्रियों मॆं माहवारी होना एक प्राकृतिक शारीरिक प्रक्रिया है, जो किशोरावस्था से लेकर प्रौढावस्था तक नियमित काल पर होती रहती है । साधारण रुप से यह हर मास के अंतराल पर आता है । माहवारी का योग्य समय पर और योग्य मात्रा में नियमित रुप से आना बहुत आवश्यक है । स्त्रियों की माहवारी का अनियमित रुप से आना उनके स्वास्थ्य के लिए अत्यंत हानिकारक है । माहवारी अनियमित होने से अनेक प्रकार के रोगों की उत्त्पति होती है । इसके कारण गर्भाशय के जटिल रोगों की उत्त्पति हो सकती है । इन सारे गंभीर रोगों से बचने के लिए माहवारी का नियमित और शुद्ध होना अति आवश्यक है । आयुर्वेद के ग्रंथो में ऐसी समस्याओ से बचने के लिए विभिन्न औषधियाँ बताई गई है । हमारी संस्था ने वर्षों तक संशोधन कार्य के बाद “मेस्ट्रोग्रीन कैप्सूल” तैयार करी है, जो रज:प्रवर्तिनीवटी, कन्यालोहादि वटी, हींगु (निर्यास) शुद्ध सुहागा इत्यादि युक्त है । इसके नियमित सेवन से माहवारी की विविध समस्याओ में बहुत लाभ मिलता है ।

Menstruation is a natural physical process in women, which is a regular phenomenan from teenage to middle age. Generally this happens at regular monthly intervals. It is necessary that menstrulation is timely and adequate. Any irregulaties in this process are harmful for feminine health, it gives rise to many diseases and long term problems. It can even cause serious uterus problems. To save from serious ailments and diseases, menstrual cycle should be regular and clear. Ayurveda scriptures have suggested various medicines for such situations. Sanskruti Arya Gurukulam has prepared ‘Mestrogreen Capsules’ after years of research, it is a combination of rajah pravartani vati, kanyalohadi vati, hing (niryas), pure suhaaga, and other herbs. Its regular use has many benefits for menstruation related prolems.

Category:

Description

CONTAINS : Each 500 mg capsule contains

Rajah Pravartini Vati: 150 mg

Kanyalohadi Vati: 150 mg

Hing Niryas: 100 mg

Shuddha Suhaga: 100 mg

लाभ :

  • मासिक धर्म की गड़बड़ी दूर करके मेन्सिस साईकल को नियमित करें ।
  • गर्भाशय को शुद्ध करके गर्भाशय की विकृतियों को दूर करें ।
  • गर्भाशय का पोषण करके गर्भाशय को सबल बनाता है ।

सेवनविधि : सुबह-दोपहर-शाम १-१ कैप्सूल पानी के साथ लें ।

सेवनयोग्य व्यक्ति : मेन्सिस अनियमित हो या किसी भी मासिकधर्म संबंधित विकृति में किसी भी आयु की स्त्री सेवन कर सकती है ।

Products Key Feature(s) : Menstrual related disorder

AyurvedVidhan : Aryabhishak, Ayurved Sar Sangrah, Rastantra Sar

Why To consume : To clean Fetus

Who Can Consume : Women of all age, who have irregular periods or any menstrual cycle related problems

Who Can Not Consume : Pregnancy

Additional information

Weight 0.032 kg
Dimensions 4.8 × 6.2 cm