Jal Shuddhi Bund

Home/Aushadhi/Jal Shuddhi Bund

Jal Shuddhi Bund

60.00

Net Volume : 30 Ml.

स्वास्थ्यप्रद-स्वच्छ-शुद्ध-पवित्र Healthy-Pure-Clear-Holy Ph Water

एसिडिक एवम दूषित पानी को शुध्ध कर ने में उपयोगी l पानी को विदोशं शामक एवम हल्का लघु बनाए l

आयुर्वेद के प्राचीन ग्रंथो में जल को शुद्ध करने के लिए विभिन्न औषधियों का वर्णन किया गया है । जल को शुद्ध करनेवाली विभिन्न औषधियाँ प्रायः नदी के किनारे पर होती है, और ऐसी औषधियों में निर्मलीबीज, नागरमोथ, केतकी इत्यादि मुख्य है । इस प्रकार की औषधियाँ को मिश्रित करके गंगाजल में मिलाकर-गोमय भस्म का संयोजन करके विशिष्ट पद्धति से यह ड्रॉप्स बनाये जाते है । फिटकरी का उपयोग होने से तो विशेष प्रभावी होता है ।

Ayurved’s ancial texts have described various methods and medicines to keep purify and clean water. Most of the water purifying medicines are available in riverbeds and main ones of them are nirmalibeej, naagarmoth, ketaki. Such medicines are mixed with gangajal and gomay bhasm and these drops are prepared using a special method as prescribed by Ayurveda. Use of fitkari (alum) makes it specially effective. Moti choona is used to purify water and improve the PH level in water.

Category:

Description

CONTAINS :

Nirmali Seed: 7 ml

Moringa Leaf: 3 ml

Lotus Seed: 4 ml

Fitakari: 3 ml

Yashad Bhasma: 1 ml

Gomay Bhasma: 3 ml

Ganga Jal: 3 ml

Tulsi Extract: 2 ml

Spiriluna: 2 ml

लाभ :

  • फिटकरी कचरे को नीचे बिठाता है ।
  • पानी में ऑक्सीजन की मात्रा को बढ़ाता है ।
  • पानी से होनेवालें रोगों से बचाता है ।
  • पानी को पचने में हल्का बनाता है ।
  • गंगाजल से पानी शुद्ध एवं पवित्र होता है ।
  • मोरिंगा पानी को शुद्ध करता है तथा पानी में प्राण को बढ़ाता है ।
  • Spiriluma एक प्रकार का सीवाल है, जो पानी को ऊर्जायुक्त करता है ।
  • पानी को शुद्ध करने तथा Ph. Value बढाने के लिए मोती के चूने का भी उपयोग किया जाता है ।

सेवनविधि :

१० से १५ बूँद १ लीटर पानी में डालकर पिएँ ।

Who can consume : Anyone above the age of 1 years can consume this.

Additional information

Weight 0.045 kg
Dimensions 3.4 × 3.4 × 9 cm