Diabetes Treatment Type 2,1, Ayurvedic Treatment In Kerala India

Diabetes Treatment Type 2,1, Ayurvedic Treatment In Kerala India

Home/Aushadhi/Vaat Rog Har Gond

Vaat Rog Har Gond

90.00

Net Volume : 100 Gms.

आयुर्वेद में वायु की विकृति के कारण विविध वातजन्य रोगों की उत्त्पति होती है । वातरोगों को ठीक करने के लिए विविध औषधियाँ विभिन्न स्वरुप और विभिन्न मात्रा में दी जाती हैं । ऐसी औषधियाँ वटी, गुटी, क्वाथ, चूर्ण, गोंद (निर्यास) आदि रुप में दी जाती है । आयुर्वेद के ग्रंथों में  विभिन्न प्रकार के गोंद का वर्णन किया गया है । गोंद जिस वनस्पति का होता है, उसी वनस्पति के समान उसके गुण पाये जाते हैं, जैसे बबूल, गुग्गलु, लाक्षा इत्यादि । ऐसी एक कडाया नाम की वनस्पति का गोंद वात रोगों में बहुत उपयोगी होता है क्योंकि वनस्पति का उपयोग वात रोग का शमन करने में होता है । इस गोंद का उपयोग करके बहुत लोगों को लाभ मिला है ।

SKU: GSAVHRG2001 Category:

Description

CONTAINS :

Kadaya Gund 

लाभ :

  • इसके सेवन से शरीर में किसी भी भाग में राहत मिलती है ।
  • शरीर में वायु का अनुलोमन होकर वात तत्त्व का balance होता है ।
  • हड्डीयों के दर्द में सूजन में लाभ प्राप्त होता है ।

सेवनविधि :

थोडा गोंद पानी में भिगोकर २ घण्टे रख देने पर उसकी paste बन जाती है, १ चम्मच paste लेकर सेवन करें ।

सेवनयोग्य व्यक्ति :

१ साल से अधिक आयुवाला कोई भी व्यक्ति इसका सेवन कर सकता है ।

Detail Description Of Product : This gum is a natural balsamic aushadhi which works on vaayu related pains.

  1. Ayurved Vidhan (ie. Sushrut Samhita, …etc) : Siddha Bheshadhya Manimaalaa
  2. Why To consume : This gond is beneficial especially for joint pains. Helpful for vaat related pains and aches

Products Key Ingredients : Natural gum from Katira tree.

Products Key Feature(s) : This tree is naturally found in Saurashtra region mostly. This gond is cleaned and is because of its extra balsamic property, easily solvable in water easy consumption.

Shastrokt (Vedic) Importance : Gond or gum is balsamic in nature. Vaayu’s nature is ruksha or dry. Balsamic property cures vaayu. Hence vaayu related pains can be cured with balsamic aushadhi.

Relevant Mantra : कट्टीरसंज्ञको गुन्द्रः संग्राही कटुको हिमः ।।

Ayurved Vidhan : Siddha Bheshadhya Manimaalaa

Why To consume : This gond is beneficial especially for joint pains. Helpful for vaat related pains and aches

Who Can Consume : Anyone

Additional information

Weight 0.11 kg
Dimensions 10.1 × 17 cm

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Vaat Rog Har Gond”

Your email address will not be published.