• Agnihotra Kund

अग्निहोत्र का महत्व

May 30th, 2021|Uncategorized|Comments Off on अग्निहोत्र का महत्व

अग्निहोत्र शब्द अग्नि और होत्र दो शब्दो से बना है। जिसका अर्थ होता है अग्नि में हव्य विभिन्न पदार्थों का विधिपूर्वक डालना प्रक्षेप करना। केवल अग्नि में किसी वस्तु को जलाना यह अग्निहोत्र नहीं कहलाता

  • मंत्रौषधि का आयाम

मंत्रौषधि का आयाम

May 28th, 2021|Mantraushadhi, Trending|Comments Off on मंत्रौषधि का आयाम

मंत्रौषधि वेदों में तथा आयुर्वेद में औषधियों के साथ मंत्रों का भी विवरण दिया है लेकिन जितना औषधियों पर कार्य हुआ है उतना मंत्र पर नहीं हुआ है। वेद की व्याख्या करते हुए भी बताया

गर्भ का विकास क्रम

March 13th, 2021|Garbh Vigyan|Comments Off on गर्भ का विकास क्रम

गर्भविज्ञान या गर्भसंस्कार भारत का अत्यंत महत्त्वपूर्ण विषय है। यह मनुष्य के जीवन के पंचकोशीय समग्र विकास के साथ अभिन्न रुप से जुडा हुआ है। पूज्य गुरुजीने वर्षो के संशोधन के बाद गर्भ आह्वान, दिव्य

भगवद् गीता निबंध प्रितियोगिता

November 18th, 2019|News|0 Comments

युवाओं के द्वारा भगवद्गीता का अध्ययन पठन हो, इस पवित्र उद्देश्य से संस्कृति आर्य गुरुकुलम् के द्वारा भगवद्गीता निबंध स्पर्धा का आयोजन किया गया है।

गर्भविज्ञान पर शिबिर

November 18th, 2019|News|0 Comments

गर्भ विज्ञान- उत्तम संतति का अद्भुत विज्ञान *स्वस्थ भारत की आधारशिला, जीवन का सबसे महत्वपूर्ण संस्कार- गर्भसंस्कार,आने वाले भविष्य के लिए उत्तम संतति का निर्माण।

संस्कृति गुरुकुलम में गर्भविज्ञान और आर्युर्वेद पर शिबिर

November 18th, 2019|News|0 Comments

गर्भविज्ञान, मंत्र औषधि एवं पंचगव्य चिकित्सा पर विशेष शिविर ★पूज्य गुरुजी और (राजीव भाई) का सपना